Jain Music

JainSite i – Card

News

  • navtatva, Jain Tattvagyan
    navtatva

    Topic – NAV TATVA Q1. Tatva kise kehte hai ? 1A. Vastu ke vastavik swarrop ko tatva kehte hai . Q2. Tatva kitne hai ? 2A. 9 Q3. Nau tatva kaun kaun se hai ? 3A. Jeev, Ajeev, Punya, Paap, Aashrav, Samvar, NIrjara, Bodh aur Moksh . Q4. Inn Nau…

    Read More...
  • palitana tirth
    Kartik Sud Punam Vidhi

    It is the 15th day of the first month- Kartik in the Gujarati calander. After the four months of rainy season (Chaturmas), the pilgrimage of Shatrunjaya reapons. It is said that the meaning of the Shatrunjaya is winning over enemies. The pilgrimage of Shatrunjaya is performed to win over the…

    Read More...
  • wpid-fb_img_1442951337168.jpg
    Jay gurudev Bhagyachandra Vijay maharaj saheb Chaturmas Parivartan

    Jay gurudev Bhagyachandra Vijay maharaj saheb Chaturmas Parivartan At Chirabazar Thakurdwar signal, Mumbai Vanitaben Khushal bhai gada family kartik sud 15 🙏🏻 गुरुदेव ! तुम्हारे चरणो में 🙏🏻 💐💐💐💐💐💐💐💐💐 🔹गुरू एक तेज है      जिनके आते ही      सारे सन्शय के अंधकार      खतम हो जाते है ॥ 🔹गुरू वो…

    Read More...
  • wpid-img-20151116-wa0070.jpg
    Gyan panchami

    🚩 कार्तिक सुदी पंचमी, 🙏🏼 आज ज्ञानपंचमी है, सम्यग् ज्ञानपद के दोहे… आज ज्ञानपंचमी के दिवस पर आपके बच्चों को ज्ञान की पूजा और निम्न लिखित दोहो से आराधना कराये… (1) समकित श्रद्धावंतने, उपन्यो ज्ञान प्रकाश प्रणमु पदकज तेहना, भाव धरी उल्लास !!      ” ॐ ह्रिॅ श्रीॅ मतिज्ञानाय नमो…

    Read More...
  • Shree Ghantakarn Mahavir
    Shree Ghantakarn Mahavir

    ✫ श्री घंटाकर्ण महावीर सिद्धिदायक चमत्कारिक मन्त्र ✫ ॐ घंटाकर्णो महावीरः सर्वव्याधि-विनाशकः। विस्फोटक भयं प्राप्ते, रक्ष-रक्ष महाबलः ॥1॥ यत्र त्व तिष्ठसे देव! लिखितो ऽक्षर-पंक्तिभिः। रोगास्तत्र प्रणश्यन्ति, वात पित्त कफोद्भवाः ॥2॥ तत्र राजभयं नास्ति, यान्ति कर्णे जपात्क्षयम्। शाकिनी-भूत वेताला, राक्षसाः प्रभवन्ति नो ॥3॥ नाकाले मरण तस्य, न च सर्पेण दृश्यते। अग्नि…

    Read More...
  • palitana
    Shashawat Tirth siddhachal

    शाश्वत तीर्थ सिद्धाचल का नाम “शत्रुंजय” एवं “पालीताणा” कैसे पड़ा ?? शत्रुंजय – चौथे तीर्थंकर अभिनन्दन स्वामी जी के तीर्थकाल में किन्ही शुक राजा ने इस तीर्थ पर विशिष्ट तपस्या कर के न केवल अपने राज्य के शत्रुओं को परास्त किया बल्कि उसके बाद यहीं तपस्या कर अपनी आत्मा के…

    Read More...
  • wpid-images.jpg
    Diwali muhurat

    ~~~~दीपावाली मुहूर्त~~ चोपड़ा- बहिखत- books- लानेका  मुहूर्त ऐवं धनपूजन के मुहूर्त गुरुदेव द्वारा बताई राशि से दुकान, ऑफ़िस, कारख़ाना, फ़र्म, व्यक्तिगत, राशि वाले के लिये नीचे बताये गये दिन मे लनेका 💮 १:~  राशि:- मेष, वृषभ, सिंह, कन्या, तुला, धन, मकर, कुंभ 💮~~ आसों वद ७ सोमवार २-१ १-२०१५ 💮~~…

    Read More...
  • AIMUTTA MUNI
    || SHRI AIMUTTA MUNI |

    || SHRI AIMUTTA MUNI || In the streets of Polaspur, a six year old child named Aimutta was playing with a few friends. He was the son of King Vijay and Queen Shrimati. While playing around, he saw a monk, Gautamswami, bare-foot and bald, who was out getting alms (food).…

    Read More...
  • guru
    Benefit of wake up in morning

    आयुर्वेद के अनुसार ब्रह्म मुहूर्त में उठकर टहलने से शरीर में संजीवनी शक्ति का संचार होता है। यही कारण है कि इस समय बहने वाली वायु को अमृततुल्य कहा गया है। इसके अलावा यह समय अध्ययन के लिए भी सर्वोत्तम बताया गया है क्योंकि रात को आराम करने के बाद…

    Read More...
  • siddhachakra
    श्रीपाल राजा – मयणासुंदरी कथा

    श्रीपाल राजा – मयणासुंदरी कथा .. १ जैन जगत में नवपद की महिमा अपरंपार है नवपदजी के गुणों की व्याख्या आराधना… महाराजा श्रीपाल और मयणासुंदरी की कथा जिनशास्त्रों के अनुसार करीबन् इग्यारह लाख वर्ष पूर्व, अनंत उपकारी प्रभु मुनिसुव्रतस्वामीजी के समय में यह तप-उपासना हुई, ऐसा शास्त्र और गुरुदेव फरमाते…

    Read More...
  • श्री शत्रुंजय महातीर्थ की भावयात्रा
    श्री शत्रुंजय महातीर्थ की भावयात्रा

    श्री शत्रुंजय महातीर्थ की भावयात्रा श्री शत्रुंजय महातीर्थ के जितने गुणगान किये जाएँ वे कम है । चॊदह राजलोक मे ऎव्सा एक भी तीर्थ नहि है जिसकी तुलना शत्रुंजय तीर्थ से कर सके । वर्तमान मे भरतक्षेत्र मे तिर्थंकर नहीं है, केवलज्ञानी नहीं है, विशिष्ट ज्ञानी भी नहीं है, फिर…

    Read More...
  • aayambil
    AYAMBIL ARADHNA

    AYAMBIL ARADHNA (Arihant Bhagwant ni agyam thi) Ayambil is a type of Jaina external tapa (under Rasa Tyag), scientifically designed to give benefits to mind, body and soul. The fast of Ayambil is observed to attain spiritual upliftment through the achievement of victory over taste and to shed karmic bondage…

    Read More...