Jain Music

JainSite i – Card

News

  • maa
    ………..माँ बहुत झूठ बोलती है…………

    सुबह जल्दी जगाने को, सात बजे को आठ कहती है। नहा लो, नहा लो, के घर में नारे बुलंद करती है। मेरी खराब तबियत का दोष बुरी नज़र पर मढ़ती है। छोटी छोटी परेशानियों पर बड़ा बवंडर करती है। ……….माँ बहुत झूठ बोलती है।। थाल भर खिलाकर, तेरी भूख मर…

    Read More...
  • AADINATH
    Kangra Jain Shwetambar Tirth

    e of pilgrimage dates back to the time of Lord Neminath, our 22nd Teerthankara. It was built during the reign of King Susharm Chandra somewhere around the era of Mahabharat. The legend has it that king Susharm Chandra one day decided to abstain from all food until he had a…

    Read More...
  • jain palitana
    ….. Tears of saffron….

    … केसर के आंसू….  ….. Tears of saffron…. टाइटल पढ़ के ही आपको आधी बात समज में आ गई होगी फिर भी निवेदन हे पूरा आर्टिकल पढ़े ………………. लगभग हम सभी पूजा करते समय मंदिर में जो केसर पुजारीजी बना के रखते हे वो ही उपयोग करते हे, हा बहोत…

    Read More...
  • four geet
    Speed ” name of the rise of the state of the organism-/ says to speed! Velocities are 4

    चार गति गति” नाम-कर्म के उदय से प्राप्त होने वाली जीव की अवस्था/पर्याय को गति कहते हैं ! गतियाँ ४ होती हैं :- १ – नरकगति २ – तिर्यंचगति ३ – देवगति, और ४ – मनुष्यगति १ – नरकगति नरकगति-नामकर्म के उदय से नरक में जन्म लेना नरकगति कहलाती है…

    Read More...
  • atam siddhi
    .gnanavarniya karm

    ? 5 prakar 2. buddhi..5 indriya aur man se utpann hone wale gnan ko ane se roke vo kaunsa karm hai? ? matignanavarniya karm 3. padhne se …sunne se jo gnan utpann hota ho usse ane se roke wo kaunsa karm hai? ? shrut gnana varniya 4.darshana varniya karm ke…

    Read More...
  • DIKSHA
  • Kharataragacchācārya Jin Piyush sea suriśvara
    Kharataragacchācārya Jin Piyush sea suriśvara g m. A. Feet kōṭiśaḥ vandana

    Kharataragacchācārya Jin Piyush sea suriśvara g m. A. Feet kōṭiśaḥ vandana खरतरगच्छाचार्य जिन पीयूष सागर सुरिश्वर जी म.सा.के चरणों में कोटिशः वंदना आचार्य भगवंत का आज 22 जनवरी शुक्रवार को भव्य प्रवेश खुजनेर में हो रहा है।इस पावन भूमि पर परम् पूज्या प्रवर्तिनी विचक्षण श्री जी म.सा.की सुशिष्या साध्वी रत्ना…

    Read More...
  • DEVLOK
    शिकोहपुर में स्थित जैन मन्दिर में मूर्तियों को चोरी करने वाले गिरोह के तीन सदस्य गिरफतार।

    शिकोहपुर में स्थित जैन मन्दिर में मूर्तियों को चोरी करने वाले गिरोह के तीन सदस्य गिरफतार। चोरी की गई करोडो स्पये मूल्य की 25 मूर्तियां भी बरामद (19-01-2016) दिनांक 29/30.12.2014 की रात को शिकोहपुर स्थित सिद्धान्त तीर्थ जैन मन्दिर के दरवाजे तोडकर कुछ बदमाशों ने जैन मन्दिर से 46 बेशकीमती…

    Read More...
  • GIRNAR
    Jay girnar…JAIN TIRTH

      Jay girnar…. Jay neminaath… Girnar parichya ➡Girnaar Mahatirthma Vishwani Sauthi Prachin Evi Mulnayak Tarike Birajmaan Shree Neminath Bhagvaanni Murti Lagbhag 165735 Varsh Nyun Ochha Eva 20 Kodakodi Sagropam Varsh Prachin Chhe… ➡Je Gai 24c Na Trija Sagarnaamna Thirthnkar Kaalma Brahmendra Dwara Banavavama Aavel Hati…. ➡Aa Pratimane Pratishitht Kryane Lagbhag…

    Read More...
  • milinath
    Princess Mālyikā

    राजकुमारी माल्यिका| जैन धर्म में कुल 24 तीर्थंकर हो चुके हैं। उनमें एक राजकन्या भी तीर्थंकर हो चुकी हैँ, जिनका नाम था राजकुमारी माल्यिका, वे 19 वेँ तीर्थकर माल्लिनाथ के नाम से पूजी जाती हैँ। राजकुमारी माल्यिका बहुत सुंदर थी, कई राजकुमार व राजा उनके साथ विवाह करना चाहते थे…

    Read More...
  • mahavir swami
    Lord mahavira is eternal journey of four.

    चार मंगल भगवान महावीर कहते है की शाश्वत मंगल चार है।Four Mars पहला मंगल है :- अरिहंत मंगल । अरिहंत को मंगल क्यों कहा गया ? अरिहंत को इसलिए मंगल कहा गया कि वे अध्यात्म के सर्वोच्च शिखर है । उन्होंने अपने भीतर की जो अमंगल की जड़ है उसे…

    Read More...
  • sky
    उर्ध्व लोक वर्णन | Jain Khagol – sky

    उर्ध्व लोक वर्णन | jain khagol सुदर्शन मेरु पर्वत के शिखर की चोटी के एक बाल के अन्तर से प्रथम स्वर्ग ऋतु विमान हैं, वहीं से उर्ध्व लोक का प्रारंभ होता है। स्वर्गों में दो दो युगल स्वर्ग अर्थात आठ जोड़ों या युगलों में सोलह स्वर्ग हैं, यों सब स्वर्ग…

    Read More...